Skin Care


            त्वचा  को रखें स्वस्थ

वर्तमान समय में बढ़ाते प्रदूषण और गलत खानपान की वजह से  त्वचा रोग में तेजी से बढ़ोतरी  हो रही है | वेसे तो त्वचा सम्बन्धी तकलीफ किसी भी कारण से हो सकती है | जेसे सुन्न बर्न,एलर्जी, प्रदूषण गलत खानपान आदि, किन्तु इसके आलावा हमारे शरीर में चलने वाली विभिन्न  क्रियाएं जिनसे विजातीय तत्व बाहर निकलते है उनका सुव्यवास्त्थित तरीके से चलना भी जरुरी है | हमारे शरीर में जमा होने वाले विजातीय तत्त्व को बहार निकालना भी जरुरी है | इनको निकालने  का कार्य अलग – अलग अवयवो को करना पड़ता है | जेसे बड़ी आंत ,फेफड़े , मुत्रपिंड शरीर का मल मूत्र एवं शरीर का कचरा नकलने के लिए इन्द्रिय रूप से करते है  | त्वचा भी भीतर के कचरे को बहार निकलती है |

जब शरीर के अन्दर उपरोक्त क्रियाएँ स्वस्थ एवं सुचारू रूप से संचालित होती है तो त्वचा स्वस्थ , सुन्दर ,चमकदार, तेजस्वी  दिखाई देती है और यदि ये अंग स्वस्थ नहीं है , सुचारू रूप से कार्य नहीं कार्य कर रहे है तो त्वचा भी मुरझाई  सी लगेगी | बीमार व्यक्ति की त्वचा इसीलिए पीली या मुरझाई लगती है | त्वचा को स्वस्थ एवं चमकदार रखने के लिए  सुन्दर त्वचा रहे व दिखे  इसके लिए भीतरी अंगों को स्वस्थ रखना जरुरी है तभी हमारी त्वचा बी सुन्दर दिखाई देगी उसके लिए आयुर्वेद आधारित कुछ नियमों का पालन करना होगा | उचित आहार का पालन करना पडेगा   तभी त्वचा  को रोगों से बचाया जा सकता है | जो लोग ज्यादा चिंता या शोक करते है अपने बल से अधिक श्रम करतें है उसकी त्वचा कम उम्र में ही रोग ग्रस्त हो जाती है  काले या सफेद चकत्ते भी दिखाई देते है | आयुर्वेद में बताया है की क्रोध या परिश्रम से कुपित हुई वायु पित्त से मिलकर  त्वचा पर आकार  रहित काले  चकत्ते  उत्त्पन्न कर देती है |

आयुर्वेद के नियमों का पालन न  करना , नियम विरुद्ध आहार सेवन करना बासी व गरिष्ठ भोजन लेना, अधिक मसालेदार भोजन ग्रहण करना और फास्ट फ़ूड जेसे अखाद्य पदार्थों के  सेवन भी त्वचा रोग को उत्पन्न हो जाते है |

वर्तमान में त्वचा को सुन्दर दिखने के लिए जो लम्बे समय से कृत्रिम प्रसाधनों का प्रयोग किया जाता है वह भी त्वचा रोग को उत्पन्न करता है |

इसके बदले प्राकृतिक और आयुर्वेदिक उबटनों का प्रयोग करना चाहिए | ताकि त्वचा सुन्दर और कांतिमय बनी रहे |

नुस्खा –रस माणिक्य 10 ग्राम , कैशोर गुग्गुल 60 गोली प्रवाल भस्म 10 ग्राम ,क्रमी  कुठार रस 60  गोली , गिलोय सत्व 10 गोली | सभी को मिलाकर एक जान कर ले  व 60  पुड़ियाँ बनाले |1- 1 पुडिया सुबह व शाम शहद से गुनगुने पानीके साथ ले | इसके आलावा महामाजिष्ठादी  काढ़ा 3-3 चम्मच सुबह शाम ले |

उपरोक्त प्रयोग  से त्वचा कांतिमय वा सुन्दर बनेगी काले धब्बे आदि से निजात मिलेगी | यदि दाद खुजली या इसी तरह की परेशानी हो तो उपरोक्त तरीके के साथ निम्न तरीके से बनाया गया मलहम भी प्रयोग करें |

योग – रुई निकले हुए कपास के फल की राख 100 ग्राम , कपूर 3 ग्राम , नीला थोथा 3  ग्राम, धतूर पत्र 250 ग्राम  तिल तेल 150 ग्राम , मोम 10 ग्राम |

पहले धतूर पत्र को तेल में जला ले फिर छान ले | फिर मोम डालकर ठण्डा होने पर कपूर व् नीला थोथा महीन पीसकर ,फलो की राख तेल में मिला दे | इसे त्वचा पर लगाने सभी चरम रोगों का नाश होता है | दाद खुजली पर जल्द लाभ मिलता है |

— निरोग धाम मासिक पत्रिका से साभार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s