मेकअप के लिए कौन कौन सी क्रीम प्रयोग की जाती है


बाजार में बहुत सी मेकअप के लिए क्रीम उपलब्ध है परंतु कौन सी क्रीम कब उपयोग लायी जानी चाहिए। इसकी जानकारी बहुत कम लोगों को होती है इसलिए इस पोस्ट मैं आपको त्वचा के लिए उपयोग की जाने वाली तरह तरह की क्रीम के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है । ज्यादातर त्वचा पर उपयोग की जाने वाली विभिन्न क्रीम है कोल्ड, क्लींजिंग क्रीम, स्कीन टॉनिक, एस्ट्रीजेंट लोशन, बॉडी लोशन, फाउंडेशन, फेस पावडर, और फेस पैक।

वैनिशिंग क्रीम

तेलीय त्वचा या सामान्य त्वचा के लिए प्रयोग में लायी जाती है यह जल प्रधान या Water Based होती है। इसका प्रयोग प्राय: गर्मी में किया जाता है।

बीबी क्रीम 

BB cream मॉइस्चराइज़र, प्राइमर, एस.पी.एफ, फाउंडेशन और कंसीलर जैसे कास्मेटिक के सभी गुणों से भरपूर एक प्रोडक्ट होता है। इस क्रीम को बनाने का मकसद यही था की मेकअप के लिए कई क्रीम का उपयोग करने की बजाए सिर्फ एक ही क्रीम बनाई जाये | कुछ महिलाओं के लिए, एक बीबी क्रीम एक पूर्ण ऑल-इन -1 उत्पाद है और कुछ के लिए यह एक प्रारंभिक उत्पाद है जो वे एक गाढ़ा फाउंडेशन लगाने से पहले उपयोग करती हैं। बीबी क्रीम मॉइस्चराइज़र और फ़ाउंडेशन के दोहरे फ़ायदों से भरी होती है. अत: जब आप इसे लगाकर मेकअप करती हैं तो मेकअप जहां चिकना नज़र आता है, वहीं लंबे समय तक चेहरे पर टिका भी रहता है | यदि आपकी त्वचा सामान्य और पहले से ही चमक दमक से भरी हुई है, तो आपको मेकअप के लिए कई क्रीम तथा फाउंडेशन लगाने की कोई जरुरत नहीं है आपकी त्वचा की टोन को ये सिर्फ क्रीम ही ठीक बनाये रखेगी। आप बीबी क्रीम का उपयोग एक उन्नत, त्वचा की चमक बढ़ाने वाले प्राइमर के रूप में कर सकते हैं। यह मुँहासे के निशान, फुंसियों और काले धब्बों को छिपाने में मदद करता है।  BB क्रीम में मौजूद एस.पी.एफ और एंटी-ऑक्सीडेंट जैसे त्वचा की देखभाल करती है इसके और भी कई लाभ है जो इस बात पर निर्भर करता है की आप आप किस ब्रांड की BB cream का चयन करते है | BB cream फाउंडेशन से हल्की लेकिन मॉइस्चराइज़र क्रीम की तुलना में भारी होती है।

कंसीलर क्रीम 

कंसीलर या कलर करेक्टर एक तरह का कॉस्मेटिक होता है, जिसका इस्तेमाल काले घेरे, बढती उम्र के निशान, चौड़े पोर्स और त्वचा पर दिखाई देने वाले अन्य छोटे दाग धब्बों के लिए किया जाता है। यह मेकअप फाउंडेशन की  तरह होता है, लेकिन यह फाउंडेशन से थोडा गाढ़ा और मोटा होता है और यह त्वचा को एक समान रंग देने में प्रयोग किया जाता है यह पिगमेंट को छिपाने के लिए भी उपयोग किया जाता है। दरअसल फ़ाउंडेशन का उपयोग पूरे चेहरे को कवर करने के लिए किया जाता है, चाहे आप फ़ाउंडेशन कम मात्रा में लगाये मध्यम या ज्यादा मात्रा में । कंसीलर का उपयोग सिर्फ त्वचा पर गहरे रंग या पिग्मेंटेड एरिया, ब्लमिश, स्पॉट, निशान आदि को छिपाने के लिए किया जाता है, और यह चेहरे की पूरी त्वचा के रंग को एक समान बना देता हैं। रोजमर्रा में हल्का मेकअप करने के लिए सीसी क्रीम एक बेहतरीन विकल्प है. यह त्वचा को स्वस्थ बनाती है और चेहरे से दाग धब्बों को भी छिपाती है |

क्लीजिंग क्रीम 

यह क्रीम त्वचा की सफाई के लिए प्रयोग में लायी जाती है और इसका प्रयोग मेकअप उतारने के लिए भी किया जाता है । क्लीजिंग क्रीम के प्रयोग के स्थान पर आप कच्चे दूध का प्रयोग भी कर सकते है। मेकअप करने से पहले चेहरे पर जमा धूल-मिट्टी को हटाने के लिए सबसे पहले इसी का प्रयोग किया जाता है | मेकअप के पहले कौन सी क्रीम लगाना चाहिए? ये सवाल अक्सर हमसे पुछा जाता है तो इसका जवाब है की मेकअप की शुरुवात क्लींजर से होती है इसके बाद टोनिंग फिर सीरम इसके बाद आई क्रीम फिर मॉइश्चराइजर आदि …….!

स्कीन टॉनिक 

लचा को पोषण प्रदान करती है इसके उपयोग से त्वचा कांतीमय हो जाती है।

एक्ट्रीजेंट लोशन  

यह तेल की मात्रा को नियंत्रण करने के लिए उपयोग में लाया जाता है। इसके उपयोग से त्वचा के खुले रोमछिद्र बंद हो जाते हैं।

ब्लीचिंग क्रीम

अनचाहे बालों का भद्दापन दूर करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है। इससे बालों का रंग हल्का पड़ जाता है और त्वचा के रंग से मिल जाता है। वे आसानी से दिखाई नहीं पड़ते। चेहरे के बालों के लिए यह विशेष लाभकारी है। मेकअप किट में यह भी जरुर होना चाहिए |

मेकअप के लिए क्रीम (फाउंडेशन क्रीम )

इस क्रीम का उपयोग मेकअप करने से पहले किया जाता है । इसके उपयोग करने से त्वचा के दाग धब्बों को छुपाया जा सकता है। इसके ऊपर मेकअप भी अच्छा जमता है। यह कई रंगों में मिलता है।

आँखों के लिए क्रीम 

Eye Cream को आंखों के नीचे पड़ने वाली झुर्रियों, सूजन, wrinkles और काले घेरे खत्म करने के लिए प्रयोग किया जाता हैं। कुछ Eye Cream ऐसी होती है हैं जो एक साथ इन सब समस्याओं को ठीक करती हैं और ये बनी होती है इन चीजो से जैसे- कैफीन, ग्लिसरीन, कैमोमाइल, हयालूरोनिक एसिड, एंटीऑक्सिडेंट और पेप्टाइड्स जैसी चीजें | Eye Creams को आंखों के आसपास की त्वचा पर ऊँगली की सहायता से लगाना चाहिए ना की पूरे चेहरे पर । उनका उपयोग एक या दो बार एक दिन में किया जा सकता है, लेकिन रात में उपयोग करने के लिए retinol or peptide eye creams का ही चुनाव करें, क्योंकि वे कोलेजन उत्पादन को संतुलित बनाती हैं |

लेक्टो कैलोमिन 

यह गुलाबी रंग का द्रव्य होता है यह त्वचा में ठंडकता प्रदान करता है। त्वचा को धूप के प्रभाव से बचाता है इसलिए इसका प्रयोग गर्मी में किया जाता है परंतु इसको लगाने से त्वचा शुष्क या ड्राई हो जाती है इसलिए इसका उपयोग मुहाँसे में भी करते  है।

फेस पावडर 

इस पावडर का उपयोग फाउंडेशन लगाने के बाद त्वचा को चमकदार बनाने के लिए किया जाता है। यह विभिन्न रंगों व खुशबूओं में मिलता है। फेस पावडर मुंह के अंदर नहीं जाना चाहिए क्योंकि इसमें पाये जाने वाले रासायनिक तत्व फेफड़े को नुकसान पहुंचाते है।

टोनर 

त्वचा से मेकअप या अन्य अवशेषों के अतिरिक्त निशान हटाने के लिए टोनर का उपयोग दिन में दो बार क्लींजर के बाद किया जाता है। “टोनर त्वचा के रोम छिद्रों (पोरस) को सिकोड़ते हैं और त्वचा को उसके प्राकृतिक पी.एच संतुलन को सही स्तर पर बनाये रखते है | साबुन और अन्य रसायनों के कारण त्वचा का पी.एच स्तर कम होने लगता है जिससे त्वचा अधिक तैलीय होने लगती है । संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को अल्कोहल-मुक्त टोनर का उपयोग करना चाहिए। टोनर को इस्तेमाल करने के बाद सीरम लगाना न भूलें। इससे स्किन एलर्जी से बची रहती है।

कोल्ड क्रीम 

ठंड के मौसम में प्रयोग में लायी जाती है अगर आपकी त्वचा सूखी है तो आप इसका प्रयोग पूरे वर्ष भर कर सकते हैं। यह तेल प्रधान या Oil Based होती है।

एंटी एजिंग फेस क्रीम 

ये फेशियल क्रीम उम्र बढ़ने के असर को कम करने का काम करती हैं। इसके अलावा एंटी-एजिंग क्रीम चेहरे की पतली लाइनें, तेज धुप की वजह से बनने वाले काले धब्बे, बढती उम्र की वजह से होने वाली झुर्रियां आदि भी दूर करती है। इस फेस क्रीम को बनाने में प्रयोग की जाने वाली अधिकांश सामग्री त्वचा को चिकना और चमकदार बनाने में मदद करती है। Anti-Aging Face Creams त्वचा की मृत कोशिकाओं को हटाती है और आपकी त्वचा में प्राकृतिक कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने में मदद करती है जिससे त्वचा पर उम्र का प्रभाव कम से कम होता है |

मॉइस्चराइजर क्रीम 

Moisturizers क्रीम आपकी त्वचा को जवां बनाए रखने में मदद करता है त्वचा को पोषण देती है त्वचा को सूखने से बचाती है, आपको इन्हें चेहरे से लेकर पैर तक उपयोग करना चाहिए। चेहरे, गर्दन, कोहनी, घुटनों और पैरों पर रोजाना दो बार मॉइस्चराइजर क्रीम लगानी चाहिए। विभिन्न प्रकार की त्वचा के लिए कई प्रकार के मॉइस्चराइज़र उपलब्ध हैं, लेकिन अगर आप वास्तव में अपनी त्वचा को हाइड्रेटेड रखना चाहते हैं, तो ऐसे मॉइस्चराइज़र का चुनाव करें जिनमें ग्लिसरीन या hyaluronic acid एसिड हो ।

अक्सर ब्यूटी पार्लर में भी इन्ही सब क्रीम को यूज किया जाता है मेकअप करने में |  मेकअप के लिए क्रीम या अन्य किसी भी कॉस्मेटिक का चुनाव करने से पहले अपनी त्वचा के प्रकार को ध्यान में रखना चाहिए नहीं तो आप चाहे कितनी भी महँगी क्रीम लगा ले आपको फायदा दिखाई नहीं देगा |

4 Comments Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s